200+ Shayari on Life | Shayari on Zindagi in Hindi with Images wallpaper

Best Latest Heart Touching Sad Shayari on life and Zindagi in Hindi with Images wallpaper for WhatsApp Facebook Instagram story and DP

Shayari on Life

1.

shayari on life

” कभी पलकों पे आंसू हैं,
कभी लब पर शिकायत है,

मगर ऐ जिंदगी फिर भी,
मुझे तुझसे मुहब्बत है “

” Kabhi Palkon Pe Aansoo Hai,
Kabhi Lab Per Shikayat Hai,
Magar Aye Zindgi Phir Bhi,
Mujhe Tujh Se Mohabbat Hai “

2.

Shayari on life

” ज़िन्दगी तस्वीर भी है और तक़दीर भी,
फर्क तो सिर्फ रंगों का है।

मनचाहे रंगों से बने तो तस्वीर,
और अनजाने रंगों से बने तो तक़दीर “

” Zindagi Tasveer Bhi Hai Aur Takdeer Bhi,
Fark To Sirf Rango Ka Hai,
Manchahe Rangon Se Bane To Tasveer,
Aur Anchahe Rango Se Bane To Takdeer “

3.

Shayari on Zindagi

” अब तो अपनी तबियत भी जुदा लगती है,
सांस लेता हूँ तो ज़ख्मों को हवा लगती है,

कभी राजी तो कभी मुझसे खफा लगती है,
जिंदगी तू ही बता तू मेरी क्या लगती है “

” Ab Toh Apni Tabiyat Bhi Juda Lagti Hai,
Saans Leta Hun Toh Zakhmo Ko Hawa Lagti Hai,
Kabhi Razi Toh Kabhi Mujse Khafa Lagti Hai,
Zindgi Tu Hi Bata Tu Meri Kya Lagti Hai “

 

4.

Shayari on Zindagi

” आँखों को अश्क का पता न चलता,
दिल को दर्द का एहसास न होता,

कितना हसीन होता जिंदगी का सफ़र,
अगर मिलकर कभी बिछड़ना न होता “

” Aankho Ko Ashq Ka Pata Na Chalta,
Dil Ko Dard Ka Ehsaas Na Hota,
Kitna Haseen Hota Zindagi Ka Safar,
Agar Milkar Kabhi Bchadna Na Hota “

5.

Shayari on life

” बस यही दो मसले, ज़िन्दगी भर ना हल हुए,
ना नींद पूरी हुई, ना ख्वाब मुकम्मल हुए,
वक़्त ने कहा…..काश थोड़ा और सब्र होता,
सब्र ने कहा….काश थोड़ा और वक़्त होता “

” bas yahi do masle, jindagi bhar na hal hue,
na nind poori hui, na khwab mukammal hue,
vakt ne kaha, kaash thoda or sabr hota,
sabr ne kaha, kaash thoda or vakt hota “

6.

Shayari on Zindagi

” हमें न मोहब्बत मिली न प्यार मिला,
हम को जो भी मिला बेवफा यार मिला,
अपनी तो बन गई तमाशा ज़िन्दगी,
हर कोई अपने मकसद का तलबगार मिला “

” hmein na mohbbat mili na pyar mila,
ham ko jo bhi mila bevafa yaar mila,
apne to ban gai tmaasha jindagi,
har koi pane maksad ka tlabgaar mila “

7.

Shayari on life

” यह जिन्दगी बस सिर्फ पल दो पल की है,
जिस में न तो आज और न ही कल है,
जी लो इस ज़िन्दगी का हर पल इस तरह,
जैसे बस यही ज़िन्दगी का सब से  हंसी पल है “

” Yeh Zindgi Bas Sirf Pal Do Pal Ki Hai,
Jis Mein Na Toh Aaj Aur Na Hi Kal Hai,
Jee Lo Iss Zindagi Ka Har Pal Iss Tarah,
Jaise Bas Yehi Zindgi Ka Sab Se Hasin Pal Hai “

8.

Sad Shayari on life

” छोटे से दिल में गम बहुत है,
जिन्दगी में मिले जख्म बहुत हैं,
मार ही डालती कब की ये दुनियाँ हमें,
कम्बखत दोस्तों की दुआओं में दम बहुत है “

” chhote se din mein gam bahut hai,
jindagi mein mile jakhm bahut hai,
maal hi daalti kab ki ye duniya hamein,
kambkhat dosto ki duaon mein
dam bahut hai “

9.

sad Shayari on Zindagi

” जो आता है वो जाता है,
यह दुनिया आनी जानी है,
यहाँ हर शख्स मुसाफिर है,
सफ़र में ही जिंदगानी है “

” Jo Aata Hai Woh Jaata Hai,
Yeh Duniya Aani Jaani Hai,
Yehan Her Shaks Musafir Hai,
Safar Mein Zindagani Hai “

10.

sad Shayari on zindagi in hindi

” हो के मायूस न यूँ शाम सा ढलते रहिये,
ज़िन्दगी भोर है सूरज सा निकलते रहिये,
एक ही पांव पे ठहरोगे तोह थक जाओगे,
धीरे धीरे ही सही पर राह पे चलते रहिये “

” Ho ke mayoos na yu sham se dhalte rahiye,
Zindagi bhor hain suraj sa nikalte rahiye,
Ek hi paon pe thahroge toh thak jaoge,
Dhire-dhire hi sahi par raah pe chalte rahiye “

11.

” टूट जाता है गरीबी में वो रिश्ता जो खास होता है,
हजारों यार बनते हैं, जब पैसा पास होता है “

” toot jata hai garibi mein vo rishta jo khas hota hai,
hzaaron yaar bante hain, jab paisa paas hota hai “

12.

” मंजिल मिले न मिले, ये तो मुकद्दर की बात है,
हम कोशिश भी न करे, ये तो गलत बात है “

” Manjil mile na mile, ye to mukaddar ki baat hai
ham koshisbhi na kare, ye to galat baat hai “

13.

” कहने वालों का कुछ नहीं जाता,
सहने वाले कमाल करते हैं,
कौन ढूंढे जवाब दर्दों के,
लोग तोह बस सवाल करते हैं “

” kehne waalon ka kuch nahi jaata,
sehne waale kamaal karte hain,
kaun dhoonde jawaab dardon ke,
log toh bas sawaal karte hain “

14.

” करने लगे हिसाब ऐ जिंदगी तो रो बैठे,
गिनते रहे सैलून को और लम्हों को खो बैठे “

” Karne Lage Hisab -Ai-Zindagi To Ro Baithe,
Ginte Rahe Salon Ko Aur Lamhon Ko Kho Baithe “

15.

” ज़िन्दगी एक हसीन ख़्वाब है,
जिसमें जीने की चाहत होनी चाहिये,
ग़म खुद ही ख़ुशी में बदल जायेंगे,
सिर्फ मुस्कुराने की आदत होनी चाहिये “

“jindagi ek hseen khwaab hai,
jismein jine ki chahat honi chahiye,
gam khud hi khushi mein badal jaayegne,
sirf muskaraane ki aadat honi chahiye “

16.

” इस ज़िन्दगी को जीने की आरज़ू,
बिन तेरे है अधूरी,
तेरा साथ जो मिल जाये,
मेरी ज़िन्दगी हो जाये पूरी “

” Is Zindagi Ko Jeene Ki Aarzoo,
Bin Tere Hai Adhuri,
Tera Sath Jo Mil Jaye,
Meri Zindagi Ho Jaye Puri “

17.

” जुगनुओं की रोशनी से तीरगी हटती नहीं,
आइने की सादगी से झूठ की पटती नहीं,
ज़िंदगी में गम नहीं फिर इसमें क्या मजा,
सिर्फ खुशियों के सहारे ज़िंदगी कटती नहीं “

” jugnuon ki roshni se tiragi hatti nahin,
aaine ki saadgi se jhooth ki patti nahin,
jindgai mein gam nahin phir ismein kya maja,
sirf khushiyon ke sahaare jindagi katti nahin “

18.

” जी रहे है तेरी शर्तो के मुताबिक़ ए जिंदगी,
दौर आएगा कभी, हमारी फरमाइशो का भी “

” Jee Rahe Hain Teri Sharto Ke Mutaabiq-E-Zindagi,
Daur Aaega Kabhi, Hamari Farmaisho Ka Bhi “

19.

” ज़िन्दगी ने कई सवालात बदल डाले,
वक़्त ने मेरे हालात बदल डाले,
मैं तो आज भी वही हूँ जो मैं कल था,
बस मेरे लिए कुछ अपनों ने अपने
ख्यालात बदल डाले “

” Zindagi Ne Kai Sawalat Badal Dale,
Waqt Ne Mere Haalaat Badal Dale,
Main to Aaj bi wahi hun Jo main kal tha,
Bas mere liye Kuch apno ne Apne
Khyalat badal dale “

20.

” अब समझ लेता हूँ मीठे लफ़्ज़ों की कड़वाहट,
हो गया है ज़िन्दगी का तजुर्बा थोड़ा थोड़ा “

” ab samajh leta hoon mithe
laphjon ki kadvaahat,
ho gaya hai jindgai ka
tjurva thoda thoda “

Best Shayari on Zindagi

21.

” ज़िन्दगी से पूछो ये क्या चाहती है,
बस एक दिल से वफ़ा चाहती है,
कितनी मासूम और नादान है ज़िन्दगी,
खुद तो बेवफा है और दुसरो से वफ़ा चाहती है “

” Zindagi Se Pucho Ye Kya Chahti Hai,
Bas Ek Dil Se Wafa Chahti Hai,
Kitni Masoom Or Nadaan Hai Zindagi,
Khud To Bewafa Hai Aur Dusro Se Wafa Chahti Hai “

22.

” ज़िन्दगी के राज को राज रहने दो,
अगर है कोई ऐतराज़ तो रहने दो,
पर जब दिल करे हमें याद करने को,
तो उसे ये मत कहना के आज रहने दो “

” Zindagi Ke Raaz Ko Raaz Rahne Do,
Agar Hai Koi Aitraz To Rahne Do,
Par Jab Dil Kare Hame Yaad Karne Ko,
To Use Ye Mat Kahna Ke Aaj Rahne Do “

23.

” अजीब सी दौड़ है ये ज़िन्दगी –
जीत जाओ तो कई अपने पीछे छूट जाते हैं,
और हार जाओ तो अपने ही पीछे छोड़ जाते हैं “

” Azib si dod hai ye jindagi,
jiit jaao to kai apne pichhe chhoot jaate hain,
or haar jaao to apne hi pichhe chod jaate hain “

24.

” ऐ ग़म ए ज़िन्दगी न हो नाराज़,
मुझको आदत है मुस्कुराने की “

” Ai Gham-e-Zindagi Na Ho Naraz,
Mujhko Aadat Hai Muskurane Ki “

25.

” मिलना एक इत्तेफाक है,
और बिछड़ना मज़बूरी है,
चार दिन की इस ज़िन्दगी में,
सबका साथ होना जरुरी है “

” Milna ek ittefaq hai,
Aur bichadna majburi hai,
Char din ki is zindagi mein,
Sabka sath hona jaruri hai. “

26.

” जरा मुस्कुराना भी सिखा दे ऐ ज़िन्दगी,
रोना तो पैदा होते ही सीख लिया था “

” Jara Muskurana Bhi Sikha De Ai Zindagi,
Rona To Paida Hote Hi Seekh Liya Tha. “

27.

” कितना और बदलू खुद को ज़िन्दगी जीने के लिए,
ऐ ज़िन्दगी मुझको थोडा सा मुझमें बाकि रहने दे “

” Kitna Aur Badalu Khud Ko Zindagi Jeene Ke Liye,
Ai Zindagi Mujhko Thoda Sa Mujhmein Baki Rehne De. “

28.

ऐ ज़िंदगी काश तू ही रूठ जाती मुझ से,
ये रूठे हुए लोग मुझ से मनाये नहीं जाते।

” Ai Zindagi Kash Tu Hi Ruth Jati Mujh Se,
Ye Ruthe Hue Log Mujh Se Mnaye Nahin Jate. “

29.

” राह संघर्ष की जो चलता है,
वो ही संसार को बदलता है।
जिसने रातों से जंग जीती है,
सूर्य बनकर वही निकलता है “

” raah sangharsh ki jo chalta hai,
vo hi sansaar ko badalta hai,
jisne raaton se jang jiti hai,
surya bankar vahi nikalta hai “

30.

” हंसकर जीना दस्तूर है जिंदगी का,
एक ये किस्सा मशहूर है जिन्द्गरी का,
बीते हुए पल कभी लौट कर नहीं आते,
यही सबसे बड़ा कसूर है जिन्दगी का “

” Hanskar jeena dastoor hai jindagi ka
Ek yahi kissa mashoor hai jindagi ka
Beete hue pal kabhi laut kar nahi aate
Yahi sabse bada kasoor h jindagi ka “

31.

” ज़िन्दगी की हर सुबह कुछ शर्ते ले कर आती है,
ज़िन्दगी की हर शाम कुछ तजुर्बे दे कर जाती है “

” Zindagi Ki Har Subah Kuch Sharte Le Kar Aati Hai,
Zindagi Ki Har Shaam Kuch Tajurbe De Kar Jati Hai “

32.

” कुछ रिश्ते ऊपर वाला बनाता है,
कुछ रिश्ते लोग बनाते हैं,
वो लोग बहुत ख़ास होते हैं,
जो बिना रिश्ते, रिश्ता निभाते हैं “

” Kuchh Rishte Upar wala Banata Hai,
Kuchh Rishte Log Banaate Hain,
Woh Log Bahut Khaas Hote Hain,
Jo Bina Rishte, Rishta Nibhaate Hain “

33.

” सर-ऐ-आम मुझे ये शिकायत है ज़िन्दगी से ,
क्यूँ मिलता नहीं मिजाज मेरा किसी से “

” sar e aam mujhe ye shikayat hai jindagi se,
kyun milta nahi mijaaj mera kisi se “

34.

” आराम से तन्हा कट रही थी तो अच्छी थी,
ज़िन्दगी तू भी कहाँ दिल की बातों में आ गयी “

 

” Aaram Se Tanha Kat Rahi Thi To Achhi Thi,
Zindagi Tu Bhi Kahan Dil Ki Baton Me Aa Gayi “

35.

” ज़िन्दगी तस्वीर भी है और तकदीर भी है,
फरक तो बस रंगों का है,
मनचाहे रंगों से बने तो तस्वीर,
और अनजाने रंगों से बने तो तकदीर”

 

” Zindagi tasveer bhi Hai or taqdeer bhi hain,
Farak to bas rango ka hain,
Maanchahe rango se bane to tasveer,
Or aanjane rango se bane to taqdeer “

36.

” मुझे ज़िन्दगी का इतना तजुर्बा तोह नहीं है दोस्तो,
पर लोग कहते हैं यहाँ सादगी से कटती नहीं “

 

” Mujhe Zindagi Ka Itna Tajurba Toh Nahin Hai Dosto,
Par Log Kahate Hain Yehan Saadgi Se KatTi Nahi “

37.

” ऐ जिन्दगी तुझ पर मेरा जोर क्यों नहीं चलता,
क्यों हर चीज पराई दी है तूने मुझे “

 

” Ai Zindagi Tujh Par Mera Jor Kyu Nahin Chalta,
Kyu Har Cheej Parai Di Hai Toone Mujhe “

38.

” हद-ए-शहर से निकली तो गाँव गाँव चली,
कुछ यादें मेरे संग पाँव पाँव चली,
सफ़र जो धूप का किया तो तजुर्बा हुआ,
वो जिंदगी ही क्या जो छाँव छाँव चली “

 

” had e shahar se nikli to gaon gaon chali,
kuch yaadein mere sang paaon paaon chali,
safar jo dhoop ka kiya to tajurba hua,
vo jindagi hi kiya jo chhaon chhaon chali “

39.

” मुझे किसी ने पुछा दर्द की कीमत क्या है,
मैंने कहा मुझे नहीं पता, लोग तो मुझे मुफ्त में दे जाते हैं”

 

mujhe kisi ne poocha dard ki kimat kya hai,
maine kaha mujhe nahi pata, log to mujhe muft mein de jaate hain “

Hourt Touching Shayari on Life in Hindi

40.

” ज़िन्दगी में ऐसे लोग भी होते है,
जिन्हें हम प् नहीं सकते सिर्फ चाह सकते हैं “

 

” Zindagi Mein Aise Log Bhi Hote Hai
Jinhen Ham Pa Nahi Sakate Sirf Chaah Sakate Hai “

41.

” है अजीब शहर की ज़िन्दगी
न सफ़र रहा न कयाम है,
कहीं कारोबार सी दोपहर
कहीं बाद मिजाज सी शाम है “

 

” Hai Ajeeb Shahar Ki Zindagi
Na Safar Raha Na Kayaam Hai,
Kahi Karobaar Si Dophar
Kahi Bad Mijaaj Si Shaam Hai. “

42.

” जो चंद लम्हों में कट जाये वो क्या ज़िन्दगी,
जो आंसू में बह जाये वो क्या ज़िन्दगी,
ज़िन्दगी का तोह फलसफा कुछ और ही है,
जो हर किसी को समझ आये वो क्या है ज़िन्दगी “

 

” Jo chnd lamho me cut jaye wo kya zindagi
Jo Aansoo me beh jaye woh kya zindagi
Zindagi ka toh falsafa kuch aur hi hain,
Jo har kisi ko samaj aaye wo kya zindagi “

43.

” मत सोच इतना ज़िन्दगी के बारे में,
जिसने ज़िन्दगी दी है उसने भी कुछ तो सोचा होगा “

 

” Mat Soch Itana Zindagi Ke Baare Mein
Jisane Zindagi Dee Hai Usane Bhi Kuchh To Socha Hoga “

44.

” आहिस्ता चल ऐ ज़िन्दगी
कुछ क़र्ज़ चुकाने बाकी हैं,
कुछ के दर्द मिटाने बाकी हैं
कुछ फ़र्ज़ निभाने बाकी हैं। “

 

” Ahista Chal Ai Zindagi
Kuch Karz Chukane Hain,
Kuch Ke Dard Mitane Baki Hain,
Kuch Farz Nibhane Baki Hain “

45.

” लाज़वाब है मेरी ज़िन्दगी का फ़साना,
कोई सीखे मुझ से हर पल मुस्कुराना,
कोई मेरी हंसी को नज़र न लगाना,
बहुत दर्द सह कर सीखा है हम ने मुस्कुराना “

 

” Lajawaab hai meri zindagi ka fasana,
Koi seekhe mujh se har pal muskurana,
Koi meri hansi ko najar na lagana,
Bahut dard seh kar seekha hai ham ne muskurana “

46.

” जो मिला कोई न कोई सबक दे गया,
अपनी ज़िन्दगी में हर कोई गुरु निकला “

 

” jo mila koi na koi sabak de gaya,
apni jindagi mein har koi guru nikla “

47.

” परेशान हूँ मैं और दर्द का है नाम ज़िन्दगी,
अच्छा या बुरा मैं हूँ पर बदनाम ज़िन्दगी,
स्याह रातें, मायूस, आँसू, लाचारी, तन्हाई,
मोहब्बत दे या कर मौत का इंतजाम ज़िन्दगी “

 

” Pareshan Hun Main Aur Dard Ka Hai Naam Zindagi,
Achchha Ya Bura Main Hun Par Badnaam Zindagi.
Syah Raatein, Mayusi, Aansu, Lachari, Tanhayi,
Mohabbat De Ya Kar Maut Ka Intezam Zindagi “

48.

” ज़िन्दगी से बस यही गिला है,
ख़ुशी के बाद क्यों ये गम मिला है,
हमने तो उनसे वफ़ा की थी,
पर नहीं जानते थे कि बेवफाई ही
वफ़ा का सिला है “

 

” Zindagi Se Bas Yahi Gila Hai,
Khushi Ke Baad Kyun Ye Gham Mila Hai,
Hamne To Unse Wafa Ki Thi,
Par Nahin Jante The Ki Bewafai Hi Wafa Ka Sila Hai “

49.

” दिल में हर राज़ दबा कर रखते है,
होंटो पर मुस्कराहट सजाकर रखते है,
ये दुनिया सिर्फ़ खुशी मैं साथ देती है,
इसलिए हम अपने आँसुओ को छुपा
कर रखते है। “

 

” dil mein har raaj daba kar rakhte hain,
hothon par muskurahat sazakar rakhte hain,
ye duniya sirf khushi mein saath deti hai
siliye ham apne aansuon ko chhupa kar rakhte hain “

50.

” जो लम्हा साथ है उसे जी भर के जी लेना,
ये कमबख्त ज़िन्दगी भरोसे के काबिल नहीं है। “

 

” Jo Lamha Saath Hai Use Jee Bhar Ke Jee Lena,
Ye Kambakht Zindagi Bharose Ke Kabil Nahi Hai “

51.

” ज़िन्दगी कबकी खामोश हो गयी,
दिल तो बस आदतन धड़कता है “

 

” jindagi kabki khamosh ho gai,
dil to bas aadatan dhadakta hai ”

52.

” लोग डूबते हैं तो समंदर को दोष देते हैं,
मंजिल न मिले तो मुकद्दर को दोष देते हैं,
खुद तो संभल कर चल नहीं सकते लोग,
जब ठोकर लगती है तो पत्थर को दोष देते हैं “

 

” Log Dubte Hain To Samandar Ko Dosh Dete Hain,
Manjil Na Mile To Mukaddar Ko Dosh Dete Hain,
Khud To Sabhal Kar Chal Nahin Sakte Log,
Jab Thhokar Lagti Hai To Patthar Ko Dosh Dete. ”

53.

” देखा है ज़िन्दगी को कुछ इतना करीब से,
चहरे तमाम लगने लगे हैं अब तोह अजीब से “

 

” Dekha Hain Zindagi Ko Kuchh Itna Kareeb Se,
Chehre Tamaam Lagne Lage Hain Ab Toh Ajeeb Se.. ”

54.

” कभी पलकों पे आँसू हैं,
कभी लब पर शिकायत है,
मगर ए ज़िन्दगी फिर भी,
मुझे तुझ से मोहब्बत है “

 

” Kabhi Palkon Pe Aansoo Hai,
Kabhi Lab Per Shikayat Hai,
Magar Aye Zindagi Fir Bhi,
Mujhe Tujh Se Mohabbat Hai. ”

55.

” कश्ती है पुरानी मगर दरिया बदल गया,
मेरी तलाश का भी तो जरिया बदल गया,
ना शक्ल बदली ना अक्ल बदली,
बस लोगों के देखने का नजरिया बदल गया। “

 

kishti hai purani magar dariya badal gaya,
meri tlaash ka bhi to jariya badal gaya,
na shakl badli na akl badali,
bad logon ke dekhne ka nazariya badal gaya

56.

” एक साँस सबके हिस्से से… हर पल घट जाती है,
कोई जी लेता है जिंदगी तो किसी की कट जाती है “

Ek Saans Sabke Hisse Se Har Pal Ghat Jaati Hai,
Koi Ji Leta Hai Zindagi To Kisi Ki Kat Jaati Hai.

57.

” होना क्या है, ज़िन्दगी को भुगत रहा हूँ ज़िन्दगी के बिन “

hona kya hai, jindagi ko bhugat raha hoon jindagi ke bin

58.

” जिंदगी हर पल ढलती है,
जैसे रेट मुठी से फिसलती है,
शिकवे कितने भी हो किसी से,
फिर भी मुस्कुराते रहना,
क्यूंकि यह ज़िन्दगी जैसी भी है,
बस एक ही बार मिलती है “

Zindagi Har Pal Dhalti Hai,
Jaise Ret MutThi Se Fisalti Hai,
Shikwe Kitne Bhi Ho Kisi Se,
Fir Bhi Muskurate Rahna,
Kyunki Yeh Zindagi Jaisi Bhi Hai,
Bas Ek Hi Baar Milti Hai..

59.

” तुझसे कोई शिकायत नहीं है ऐ जिदंगी
जो भी दिया है वही बहुत है मेरे लिए “

Tujhse Koi Shikayat Nahin Hai Ai Zindagi,
Jo Diya Hai Wahi Bahut Hai Mere Liye.

60.

” तु कितनी भी खुबसुरत क्यूँ ना हो एे ज़िंदगी..
खुशमिजाज़ दोस्तों के बगैर अच्छी नहीं लगती “

tu kitni bhi khoobsurat kyun na ho ai jindagi,
khushmijaan doston ke bager achhi nahi lagti

Hourt Touching Shayari on Zindagi in Hindi

61.

” ले दे के अपने पास फ़क़त एक नजर तो है,
क्यूँ देखें ज़िन्दगी को किसी की नजर से हम “

le de ke apne paas phakat ek nazar to hai,
kyun dekhein jindagi ko kisi ki nazar se ham

62.

” जीने के लिए सोचा ही नहीं दर्द सँभालने होंगे,
मुस्कुराये तो, मुस्कुराने के क़र्ज़ उतारने होंगे “

Jeene Ke Liye Socha Hi Nahi Dard Sambhalne Honge,
Muskuraye Toh, Muskurane Ke Karz Utaarne Honge..

63.

” कितना मुश्किल है ज़िन्दगी का ये सफ़र,
खुदा ने मरना हराम किया लोगो ने जीना “

Kitna Mushkil Hai Zindagi Ka Ye Safar,
Khuda Ne Marna Haraam Kiya Logon Ne Jeena.

64.

” मुझसे नाराज़ है तो छोड़ दे तन्हा मुझको,
ऐ ज़िन्दगी, मुझे रोज़ रोज़ तमाशा न बनाया कर “

Mujhse Naraaj Hai To Chhod De Tanha Mujhko,
Zindagi Mujhe Roz Roz Tamasha Na Banaya Kar.

65.

” ज़िन्दगी ये तो बता, तू कोई दरिया है के सागर है
मुझको मालूम तो हो कितने पानी में हूँ मैं “

Zindagi ye to bata tu Koi Dariya Hai Ke Sagar Hai,
Mujhko Maloom To Ho Kitne Paani Mein Hun Main..

66.

” एक और ईंट गिर गई दीवार ए जिंदगी से
नादान कह रहे हैं नया साल मुबारक हो “

ek or int gir gai divaar ai jindagi se
naandan kah rahe hain naya saal mubaarak ho

67.

” जाना कहा था और कहां आ गए,
दुनिया में बन कर मेहमान आ गए,
अभी तो प्यार की किताब खोली थी,
और न जाने कितने इम्तिहान आ गए “

jaana kahan tha or kahan aa gaye,
duniya mein ban kar mehmaan aa gaye,
abhi to pyaar ki kitab kholi thi,
or na jaane kitne imtihaan aa gaye

68.

” लब खामोश है दिल भी उदास है,
मुद्दतों से जैसे जिंदगी लापता हो “

Lab Khaamosh Hain Dil Bhi Udaas Hai,
Muddaton Se Jaise Zindagi Lapata Ho.

69.

” रखा करो नजदीकियॉ,  जिन्दगी का कुछ भरोसा नही….
फिर मत कहना, चले भी गऐ और बताया भी नही….!.

rakha karo najdikiyan..jindagi ka kuch bhrosa nahi,
phir mat kahana…
chale bhi gaye or bataya bhi nahi

70.

” कितना मुश्किल है ज़िन्दगी का ये सफ़र,
खुदा ने मरना हराम किया, लोगों ने जीना “

Kitna Mushkil Hai Zindagi Ka Yeh Safar,
Khuda Ne Marna Haraam Kiya,
Logon Ne Jeena..

71.

” थक गया हूँ तेरी नौकरी से ऐ ज़िन्दगी,
मुनासिब होगा के मेरा हिसाब कर दे “

Thak Gaya Hun Teri Naukari Se Ai Zindagi,
Munaasib Hoga Ke Mera Hisaab Kar De.

72.

” डरते है आग से कही जल न जाये
डरते है ख्वाब से कहीं टूट न जाये
लेकिन सबसे ज़्यादा डरते है आपसे
कहीं आप हमें भूल न जाये। “

darte hain aag se kahin jal na jaayein,
darte hain dhwaab se kahin toot na jaayein,
lekin sabse jyada darte hain aapse,
kahin aap hmein bhool na jaayein

73.

” ज़िन्दगी ये चाहती है कि ख़ुदकुशी कर लूँ,
मैं इस इन्तज़ार में हूँ कि कोई हादसा हो जाए “

Zindagi Ye Chahti Hai Ki Khudkushi Kar Lun,
Main Is Intezaar Me Hun Ki Koi Hadsa Ho Jaye.

74.

” जाने क्या मुझसे ज़माना चाहता है,
मेरा दिल तोड़कर मुझे ही हसाना चाहता है,
जाने क्या बात झलकती है मेरे इस चेहरे से,
हर शख्स मुझे आज़माना चाहता है “

jaane kya mujhse jmaana chahta hai,
mera dil todkar mujhe hi hsaana chahta hai,
jaane kya baat jhalakti hai mere is chehare se,
har shaksh mujhe aajmaana chahta hai

75.

” ये सोच कर अपनी हर हँसी बाट दी मेने
कि किसी ख़ुशी पर मेरा भी नाम हो जाए:
मुख़्तसर सा सफर है मेरा कोन जाने कब
मेरे इस सफर की आखरी शाम हो जाए “

ye soch kar apni har hansi baat di mene
ki kisi khushi par mera bhi naam ho jaaye,
mukhtsar sa safar hai mera koun jaane kab,
mere is safar ki aakhiri shaam ho jaaye,

76.

” लब पे आती है दुआ बन के तमन्ना मेरी,
ज़िन्दगी शम्मा की सूरत हो खुदाया मेरी “

Lab Pe Aati Hai Duaa Ban Ke Tamanna Meri,
Zindagi Shamma Ki Soorat Ho Khudaaya Meri.

77.

” अपने वजूद पर इतना न इतरा, ऐ ज़िन्दगी,
वोह तोह मौत है जो मोहलत दिए जा रही है “

Apne Wajood Par Itna Na Itara, Aye Zindagi,
Woh Toh Maut Hai Jo Mohlat Diye Ja Rahi Hai..

78.

” ज़िंदगी का हर वो रंग दिलकश लगता है,
जो आपके प्यार में हम’पर चढ़ता है “

jindagi ka har vo rang dilkash lagata hai,
jo aapke pyaar mein ha par chadhta hai

79.

” मेरी यह ज़िन्दगी है कि मरना पड़ा मुझे,
एक और ज़िन्दगी की तमन्ना लिए हुए “

Meri Yeh Zindagi Hai Ki Marna Pada Mujhe,
Ek Aur Zindagi Ki Tamanna Liye Huye.

80.

” रूठी जो जिदंगी तो मना लेंगे हम,
मिले जो गम वो सह लेंगे हम,
बस आप रहना हमेशा साथ हमारे तो,
निकलते हुए आंसूओ में भी मुस्कुरा लेंगे हम “

ruthi jo jindagi to mana lenge ham,
mile jo gam vo sah lenge ham,
bas aap rahana hmesha saath hmaare to,
nikalte hue aansuon mein bhi muskara lenge ham

Sad Shayari on Life in Hindi with Images wallpaper

81.

” जिन्दगी लत है…
हर लम्हे से बेपनाह मोहब्बत है,
मुश्किल और सुकून की कशमकश में,
जिंदगी यूं ही जिये जाता हूँ “

Zindagi Lat Hai…
Har Lamhe Se Be-Panah Mohabbat Hai,
Muskil Aur Sukun Ki Kashmkash Me,
Zindagi Yun Hi Jiye Jata Hun.

82.

” लोग मुन्तज़िर ही रहे कि हमें टूटा हुआ देखें,
और हम थे कि सहते-सहते पत्थर के हो गए “

log muntjir hi rahe ki hmein tuta hua dekhen
or ham the ki sahate sahate pathar ke ho gaye

83.

” साथ रहते युहीं वक़्त गुज़र जाएगा,
दूर होने के बाद कौन किसे याद आएगा,
जी लो ये पल जब हम साथ हैं,
कल का क्या पता, वक़्त कहाँ ले जाएगा “

Saath rehte yuhin waqt guzar jayega,
Door hone ke baad kaun kise yaad aayega,
Jee lo ye pal jab humsath hai,
kal ka kya pata, waqt kahan le jayega..

84.

” ज़िंदादिली होती है जिन्दगी,
इश्क मे घुली होती है जिन्दगी,
तुमसे मिलने कि तमन्ना रखती है जिन्दगी,
लेकिन तक़दीर नही मिलने देती है जिन्दगी “

Zindadili Hoti Hai Zindagi,
Ishq Me Ghuli Hoti Hai Zindagi,
Tumse Milne Ki Tamnna Rakhti Hai Zindagi,
Lekin Takdeer… Nahin Milne Deti Zindagi.

85.

” दुनिया का बोझ जरा दिल से उतार दे,
छोटी सी जिंदगी है हँस के गुजार दे “

duniya ka bojh jara dil se utaar de,
chhoti si jindagi hai, hans ke gujaar de

86.

” बख्शा है ठोकरों ने सँभलने का हौसला,
हर हादसा ख्याल को गहराई दे गया “

baksha hai thokaron ne sambhale ka hoosala,
har haadsa khyaal ko gaharai de gaya

87.

” वही रंजिशें वही हसरतें,
न ही दर्द ए दिल में कमी हुई,
है अजीब सी मेरी ज़िन्दगी,
न गुजर सकी न खत्म हुई “

Wahi Ranjishen Wahi Hasratein,
Na Hi Dard e Dil Me Kami Huyi,
Hai Ajeeb Si Meri Zindagi,
Na Gujar Saki Na Khatm Huyi.

88.

“मुझे पतझड़की कहानियां सुना के उदास न कर ऐ-जिंदगी….
नए मौसम का पता बता, जो गुज़र गया वो गुज़र गया “

mujhe patjhad ki kahaniya suna ke udaas na kar ai jindagi,
naye mausam ka pata bata, jo gujar gaya vo gujar gaya

89.

” अब तो खुशी का गम है न गम की खुशी मुझे,
बे-हिज बना चुकी है बहुत ज़िन्दगी मुझे,
वो वक्त भी खुदा न दिखाए कभी मुझे,
के उनकी नादाम्तों पे हो शर्मिंदगी मुझे “

Ab To Khushi Ka Gam Hai Na Gam Ki Khushi Mujhe,
Be-His Bana Chuki Hai Bahut Zindagi Mujhe,
Woh Waqt Bhi Khuda Na Dikhaye Kabhi Mujhe,
Ke Unki Nadamaton Pe Ho Sharmindgi Mujhe.

90.

” अब आंसुओं को आँखों में सजाना होगा,
चराग बुझ गए खुद को तो जलाना होगा,
न समझना की तुमसे बिछडके खुश हैं हम,
हमें लोगों की खातिर मुस्कुराना होगा “

Ab aansuon ko aankhon me sajana hoga,
Charaag bujh gaye khud ko jalana hoga,
Na samajhna ki tumse bichadke khush hain hum,
hamein logon ki khatir muskurana hoga…

91.

” कल न हम होंगे न कोई गिला होगा,
सिर्फ सिमटी हुई यादों का सिलसिला होगा,
जो लम्हे हैं चलो हँसकर बिता लें,
जाने कल ज़िन्दगी का क्या फैसला होगा “

Kal Na Hum Honge Na Koi Gila Hoga,
Sirf Simti Hui Yaadon Ka Silsila Hoga,
Jo Lamhe Hain Chalo Haskar Bita Lein,
Jaane Kal Zindagi Ka Kya Faisla Hoga.

92.

” तुम सचमुच जुड़े हो गर मेरी जिंदगी के साथ,
तो कुबूल करो मुझको मेरी हर कमी के साथ “

tum sachmuch jude ho gar meri jindagi ke saath,
to kabool karo mujhko meri ha kami ke saath,

93.

” ज़िन्दगी से पूछिये ये क्या चाहती है,
बस एक आपकी वफ़ा चाहती है,
कितनी मासूम और नादान है ये,
खुद बेवफा है और वफ़ा चाहती है “

jindagi se puchhiye ye kya chahti hai,
bas ek aapki vafa chahti hai,
kitin maasunm or naadaan ha ye,
khud bevafa ha or bafa chahati hai

94.

” एक मुद्दत से मेरे हाल से बेगाना है;
जाने ज़ालिम ने किस बात का बुरा माना है;
मैं जो जिंदगी हूँ तो वो भी हैं अना का कैदी;
मेरे कहने पर कहाँ उसने चले आना है “

Ek Muddat Se Mere Haal Se Begana Hai,
Jaane Jalim Ne Kis Baat Ka Bura Mana Hai,
Main To Zindgi Hun To Wo Bhi Hai Ana Ka Kaidi,
Mere Kahne Par Kahan Use Chale Aana Hai,

95.

” ज़िन्दगी कभी आसान नही होती इसे आसान बनाना पड़ता हे
कुछ नज़र अंदाज करके कुछ को बर्दाश्त करके.”

jindagi kabhi aasaan nahi hoti ise aasaan banaana padta hai,
kuch nazar andaaz karke kuch ko bardaasth karke

96.

” आज हम हैं, कल हमारी यादें होंगी,
जब हम न होंगे, तब हमारी बातें होंगी
कभी पलटोगे ज़िन्दगी के ये पाने,
तो शायद आपकी आँखों से भी बरसातें होंगी “

Aaj hum hai, kal hamari yaadein hongi,
jab hum na honge, tab hamari baatein hongi,
kabi paltoge zindagi ke yeh paane..
to shayad apki ankhon se bhi barsaaten hongi.

97.

” थोड़ी मस्ती थोड़ा सा ईमान बचा पाया हूँ,
ये क्या कम है, मैं पहचान बचा पाया हूँ,
कुछ उम्मीदें, कुछ सपने, कुछ महकती यादें,
जीने का मैं इतना ही सामन बचा पाया हूँ “

Thodi Masti Thoda Sa Imaan Bacha Paya Hun,
Yeh Kya Kam Hai Main Apni Pahchaan Bacha Paya Hun,
Kuchh Ummidein, Kuchh Sapne, Kuchh Mahekti Yaadein,
Jeene Ka Main Itna Hi Saaman Bacha Paya Hun.

98.

” एक अजीब सी दौड़ है ये ज़िन्दगी….
जीत जाओ तो कई अपने पीछे छूट जाते हैं,
हार जाओ तो अपने ही पीछे छोड़ जाते हैं “

ek ajib si dod hai ye jindagi,
jeet jaao to kai apne pichhe choot jaate hain,
haar jaao to apne hi pichhe chod jaate hain

99.

” प्यार के सिवा नहीं होता मुझसे कुछ काम जिंदगी,
अब चुकता कर दे मेरा हिसाब तमाम जिंदगी “

Pyar Ke Siwa Nahi Hota Mujhse Kuchh Kaam Zindgi,
Ab Chukta Ker De Mera Hisaab Tamaam Zindgi.

100.

” जिंदगी के कुछ और पैमाने तय करो
बस जी लेना ही ज़िन्दगी नहीं “

jindgai ke kuch or paimaane tay karo,
bas ji lena hi jindgai nahin

2 line Shayari on life in Hindi with Images

101.

” कैसे कह दूँ कि अब थक गया हूँ मैं
न जाने घर में कितनों का हौसला हूँ मैं “

kaise kah doon ki ab thak gaya hoon main,
na naane ghar mein kitnon ka hosla hoon main

102.

” शाम तक सुबह की नजरों से उतर जाते हैं,
इतने समझोतों पे जीते हैं के मर जाते हैं “

Shaam Tak Subah Ki Najron Se Utar Jaate Hain,
Itne Samjhoton Pe Jeete Hain Ke Mar Jaate Hain..

103.

” मत सोच इतना….
जिन्दगी के बारे में ,
जिसने जिन्दगी दी है…
उसने भी तो कुछ सोचा होगा “

mat soch itna, jindagi ke baare mein,
jisne jindagi di hai, usne bhi to kuch socha hoga

104.

” वही आँसू, वही आँखे, वही काजल, वही लब,
वो भी कितना सताती है, सुबह शाम जिंदगी “

Wohi Aansu, Wohi Aankhein, Wohi Kajal, Wohi Lab,
Woh Bhi Kitna Satati Hai Subah Shaam Zindgi.

105.

” पढ़ने वालों की कमी हो गयी है
आज इस ज़माने में…
वरना मेरी ज़िन्दगी का हर पन्ना, पूरी किताब है “

pdhane vaalon ki kami ho gai hai,
aaj is jmaane mein..
varna meri jindagi ka har panna, poori kitab hai

106.

” होना कया है, ज़िन्दगी को भुगत रहा हूँ ज़िन्दगी के बिन “

hona kya hai, jindagi ko bhugat raha hoon, jindagi ke bin

107.

” कल न हम होंगे न कोई गिला होगा,
सिर्फ सिमटी हुई यादों का सिलसिला होगा,
जो लम्हे हैं चलो हसकर बिता ले,
जाने कल ज़िन्दगी का क्या फैसला होगा “

Kal Na Hum Honge Na Koi Gila Hoga,
Sirf Simti Hui Yaadon Ka Silsila Hoga,
Jo Lamhe Hain Chalo Haskar Bita Le,
Jaane Kal Zindgi Ka Kya Faisla Hoga..

108.

” ज़िन्दगी हसीन है, ज़िन्दगी से प्यार करो
हो रात तो सुबह का इंतज़ार करो
वो पल भी आएगा, जिस पल का इंतज़ार हैं आपको
बस रब पर भरोसा और वक़्त पे ऐतबार करो “

jindgai hseen hai, jindagi se pyaar karo,
ho raat to subah ka intezaar karo,
vo pal bhi aayega, jis pal ka intezaar hai aapko,
bas rab par bhrosa or vakt pe aitvaar karo

109.

” ज़िदगी जीने के लिये मिली थी,
लोगों ने सोचने में ही गुज़ार दी “

jindagi jine ke liye mili thi,
logon ne sochane mein hi gujar di

110.

” सो सुख पा कर भी सुखी न हो
पर एक ग़म का दुःख मनाता है
तभी तो कैसी करामात है कुदरत की
लाश तो तैर जाती है पानी में
पर जिन्दा आदमी डूब जाता है “

100 sukh paa kar bhi sukhi na ho
Par ek gham ka dukh mnata hai
Tabhi to kaisi kramat hai kudrat ki
Laash to tair jaati hai paani me
Par jinda aadmi doob jata hai

111.

” देखा है ज़िंदगी को कुछ इतना करीब से,
चेहरे तमाम लगने लगे हैं अब तो अजीब से “

Dekha Hai Zindagi Ko Kuchh Itna Kareeb Se,
Chehre Tamaam Lagne Lage Hain Ab Toh Ajeeb Se.

112.

” मेरी जिंदगी को तन्हाई धुंध लेती है,
मेरी हर ख़ुशी को रुसवाई धुंध लेती है,
ठहरी हुई है मंजिलें अंधेरों में कब से,
मेरे जख्म को गेम जुदाई धुंध लेती है “

Meri jindagi ko tanhai dhundh leti hai
meri har khushi ko rusavai dhundh leti hai,
thahari hui hain manjilen andheron mein kab se,
mere jakhm ko game-judai dhundh leti hai!.

113.

” हर वक्त बस सजा मुकर्रर करती रहती है तू,
कभी तो दे मुझे मोहब्बत का इनाम जिंदगी “

Har Waqt Bas Saza Mukarrar Kerti Rehti Hai Tu,
Kabhi Toh De Mujhe Mohabbat Ka Inaam Zindgi.

114.

” जब भी करीब आता हूँ बताने के लिए,
जिंदगी दूर रखती है सताने के लिए,
महफिलों की शान न समझना मुझे,
मैं तो हँसता हूँ गम छुपाने के लिए “

Jab bhi karib aata hu batane ke liye,
zindgi door rakhti hai satane ke liye,
mehfilo ki shaan na samjhna mujhe,
main to hansta hu gam chupane ke liye..

115.

” ज़िन्दगी से पूछिये ये क्या चाहती है,
बस एक आपकी वफ़ा चाहती है,
कितनी मासूम और नादान है ये “

Zindgi Se Puchhiye Yeh Kya Chahti Hai,
Bas Ek Aapki Wafa Chahti Hai,
Kitni Masoom Aur Nadaan Hai Yeh,
Khud Bewafa Hai Aur Wafa Chahti Hai.

116.

” छोड़ ये बात कि मिले ज़ख़्म कहाँ से मुझको,
ज़िंदगी इतना बता कितना सफर बाकी है “

Chhod Yeh Baat Ke Mile Zakhm Kahan Se Mujhko,
Zindagi Itna Bata Kitna Safar Baaki Hai.

117.

” कोई खुशियों की चाह में रोया,
कोई दुखों की पनाह में रोया,
अजीब सिलसिला है ये ज़िन्दगी का,
कोई भरोसे के लिए रोया,
तोह कोई भरोसा करके रोया “

koi khushiyon ki chah mein roya,
koi dukhon ki panah mein roya,
ajib silsila hai ye jindagi ka,
koi bhrose ke liye roya
to koi bharosa karke roya

118.

” शतरंज‬ खेल रही है मेरी ‪जिंदगी‬ कुछ इस तरह,
कभी तेरी मोहब्बत मात देती है कभी मेरी ‪किस्मत‬ “

ShatRanj Khel Rahi Hai Meri Zindagi Kuchh Iss Tarah,
Kabhi Teri Mohabbat Maat Deti Hai Kabhi Meri Kismat.

119‪.

” स्याह रातें, मायूसी, आंसू, लाचारी, तन्हाई,
मोहब्बत दे या कर मौत का इंतज़ाम जिंदगी “

Syaah Raatein, Mayusi, Aansu, Lachari, Tanhayi,
Mohabbat De Ya Kar Maut Ka Intezam Zindgi.

120.

” मुश्किलें जरुर हैं
मगर ठहरा नहीं हूँ मैं
मंजिल से जरा कह दो
अभी पहुंचा नहीं हूँ मैं “

Mushkile jarur hain
Magar thehra nahi hun main
Manzil se zraa keh do
Abhi pahuncha nahi hun main

121.

” है अजीब शहर की ज़िंदगी
न सफर रहा न क़याम है
कहीं कारोबार सी दोपहर
कहीं बदमिजाज़ सी शाम है “

Hai Ajeeb Shahar Ki Zindgi
Na Safar Raha Na Qayam Hai,
Kahi Karobaar Si Dophar
Kahi Bad-Mijaz Si Shaam Hai.

122.

” जो लम्हा साथ है उसे जी भर के जी लेना,
ये कम्बख्त जिंदगी भरोसे के काबिल नहीं है “

Jo Lamha Saath Hai Use Jee Bhar Ke Jee Lena,
Yeh Kambakht Zindagi Bharose Ke Kabil Nahi Hai.

123.

” परेशान हूँ मैं और दर्द का है नाम जिंदगी,
अच्छा या बुरा मैं हूँ पर बदनाम जिंदगी “

Pareshan Hun Main Aur Dard Ka Hai Naam Zindgi,
Achchha Ya Bura Main Hun Par Badnaam Zindgi.

124.

” मुझे ज़िंदगी का इतना तजुर्बा तो नहीं है दोस्तों,
पर लोग कहते हैं यहाँ सादगी से कटती नहीं “

Mujhe Zindagi Ka Itna Tajurba Toh Nahin Hai Dosto,
Par Log Kahte Hain Yehan Saadgi Se KatTi Nahi.

125.

” बड़ी चालाक होती है, जिंदगी हमारी,
रोज नया कल देकर उम्र छीन लेती है “

badi chaalak hoti hai, jindagi hamari,
roj naya kal dekar umra chhin leti hai

126.

” पानी फेर दो इन् पन्नो पर
ताकि धुल जाये स्याही सारी.
ज़िन्दगी फिर से लिखने का,
मन होता है कभी कभी “

Paani Pher Do Inn Panno Par,
Taki Dhul Jaye Syahi Sari,
Zindgi Phir Se Likhne Ka
Man Hota Hai Kabhi Kabhi..

127.

” यादें आती हैं यादें जाती हैं,
कभी खुशियाँ तो कभी ग़म लती है,
शिकवा न करना कभी क्यूंकि आज जो ज़िन्दगी है,
वही तो कल की यादें कह लेती हैं “

Yaadein aati hain yaadein jati hain,
Kabhi kushiyan toh kabhi gham lati hai,
Shikwa na karna kabhi kyuki aaj jo zindagi hai.
Wahi to kal ki yaadein keh lati hain.

128.

” इतनी बदसलूकी ना कर… ऐ ज़िंदगी,
हम कौन सा यहाँ बार-बार आने वाले हैं “

Itni Bad-Saluki Na Kar… Ai Zindgi,
Hum Kaun Sa Yehan Baar-Baar Aane Wale Hain.

129.

” अब समझ लेता हूँ मीठे लफ़्ज़ों की कड़वाहट,
हो गया है ज़िंदगी का तजुर्बा थोड़ा थोड़ा “

Ab Samajh Leta Hun Meethhe Lafzon Ki Kaduwahat,
Ho Gaya Hai Zindagi Ka Tajurba Thoda Thoda.

130.

” हंसी आपकी कोई चुरा न पाए,
आपको कभी कोई रुला न पाए,
खुशियों का दीप ऐसे जले आपकी ज़िन्दगी में
की कोई तूफ़ान भी उसे भुझा न पाए “

Hansi Aapki Koi Chura Na Paye,
Aapko Kabhi Koi Rula Na Paye,
Khusiyon Ka Deep Aise Jale Aapki Zindagi Mein.
Ki Koi Tufaan Bhi Use Bhujha Na Paye..

131.

” मंजिलें मुझे छोड़ गयी रास्तों ने संभाल लिया,
जिंदगी तेरी जरूरत नहीं मुझे हादसों ने पाल लिया “

Manzile Mujhe Chhod Gayi Raston Ne Sambhal Liya
Zindagi Teri Jarurat Nahi Mujhe Haadson Ne Paal Liya.

132.

” कभी खोले तो कभी ज़ुल्फ़ को बिखराए है,
ज़िंदगी शाम है और शाम ढली जाए है “

Kabhi Khole Toh Kabhi Zulf Ko Bikhraye Hai,
Zindagi Shaam Hai Aur Shaam Dhali Jaye Hai.

133.

” मंजिलें मुझे छोड़ गयी रास्तों ने संभाल लिया,
जिंदगी तेरी जरूरत नहीं मुझे हादसों ने पाल लिया “

mujhe mujhe chod gai raaston ne sambhaal liya,
jindagi teri jaroorat nahin, mujhe haadson ne paal kiya

134.

” मत कर गम इतना, तू दिल तोड़े जाने का,
की खुदा हिसाब रखता है हर बुरे और सयाने का,
की मौत आणि होगी तब आयेगी,
उठाले मज़ा ज़िन्दगी के पैमाने का “

Mat Kar Gam Itna Tu Dil Tode Jane ka,
Ki Khuda Hisab Rakhta Hai Har Bure Or Sayane ka,
Ki Maut Aani Hogi Tab Ayegi,
Uthale Maza Zindagi Ke Paimane ka. .

135.

” काटों में रहकर भी ज़िन्दगी जी लेते हैं,
हर जख्मो को अपने हाथों से सी लेते हैं,
जिस हाथ को कह दिया दोस्ती का हाथ,
उस हाथ से जहर भी पी लेते हैं “

Kaaton Mai Rehkar Bhi Zindagi Jee Lete Hain,
Har Jakhmo Ko Apne Hathon Se Si Lete Hain,
Jis Hath Ko Keh Diya Dosti Ka Hath,
Us Hath Se Jehar Bhi Pi Lete Hain..

136.

” हर बात मानी है तेरी सिर झुका कर ऐ ज़िंदगी,
हिसाब बराबर कर तू भी तो कुछ शर्तें मान मेरी “

Har Baat Maani Hai Teri Sar Jhuka Kar Ai Zindagi,
Hisaab Barabar Kar Tu Bhi Toh Kuchh Shartein Maan Meri.

137.

” है अजीब शहर की ज़िंदगी
न सफर रहा न क़याम है
कहीं कारोबार सी दोपहर
कहीं बदमिजाज़ सी शाम है “

Hai Ajeeb Shahar Ki Zindgi
Na Safar Raha Na Qayam Hai,
Kahi Karobaar Si Dophar
Kahi Bad-Mijaz Si Shaam Hai.

138.

” ज़िंदगी भी तवायफ की तरह होती है,
कभी मजबूरी में नाचती है कभी मशहूरी में “

Zindgi Bhi Tawayaf Ki Tarah Hoti Hai,
Kabhi Majboori Mein Nachti Hai Kabhi MashHoori Mein.

139.

” कुछ ऐसे हादसे भी होते हैं ज़िन्दगी में ए दोस्त,
इंसान बच तो जाता है, मगर जिंदा नहीं रहता “

Kuchh Aise Haadse Bhi Hote Hain Zindgi Mein Ai Dost,
Insaan Bach Toh Jata Hai Magar Zinda Nahi Rehta. .

140.

” ज़िन्दगी इतनी आसन नहीं होती,
इसे आसन बनाना पड़ता है,
कुछ नज़र अंदाज़ करके,
कुछ बर्दाश्त करके “

Zindagi itni aasan nahi hoti,
Isey aasan banana padta hai,
Kuch Nazar-Andaz karke,
Kuch bardasht karke..

141.

” पहले से उन कदमों की आहट जान लेते हैं,
तुझे ऐ ज़िंदगी हम दूर से पहचान लेते हैं “

Pehle Se Un Kadamon Ki Aahat Jaan Lete Hain,
Tujhe Ai Zindagi Hum Dur Se Pehchaan Lete Hain.

142.

” सुबह का हर पल प्यारी ज़िन्दगी दे आपको,
दिन का हर पल खुशियाँ दे आपको,
जहाँ गम की हवा छु भी न सके आपको,
खुदा वो जन्नत सी ज़मी दे आपको “

Subah ka har pal Pyaari Zindagi de apko,
Din ka har Pal Khushiya de aapko,
Jahan gam ki hawa choo bhi na sake aapko,
Khuda wo jannat si zami de aapko.

143.

” ज़िंदगी जिसका बड़ा नाम सुना है हमने,
एक कमजोर सी हिचकी के सिवा कुछ भी नहीं “

Zindagi JisKa Badaa Naam Suna Hai Hum Ne,
Ek Kamjor Si Hichki Ke Siwa Kuchh Bhi Nahi.

144.

” एक उम्र गुस्ताखियों के लिये भी नसीब हो,
ये ज़िंदगी तो बस अदब में ही गुजर गई “

Ek Umar Gustakhiyon Ke Liye Bhi Naseeb Ho,
Yeh Zindagi Toh Bas Adab Mein Gujar Gayi.

145.

” इस ज़िन्दगी से सभी को मोहब्बत है,
पर ज़िन्दगी किसी की मोहब्बत नहीं बनती,
तमन्ना ले कर जीते हैं यहाँ सब लोग,
पर हर तमन्ना तकदीर नहीं बनती “

Is Zindagi Se Sabhi Ko Mohabbat Hai,
Par Zindagi Kisi Ki Mohabbat Nahi Banti,
Tamanna Le Kar Jite Hai Yahan Sab Log,
Par Har Tamanna Taqdir Nahi Banti..

146.

” इतनी बद सलूकी न कर ए ज़िन्दगी,
हम कौन से यहाँ बार बार आने वाले हैं “

Itni Bad-Saluki Na Kar Aye Zindgi,
Hum Kaun Sa Yehan Baar Baar Aane Wale Hain..

147.

” ले दे के अपने पास फ़क़त एक नजर तो है,
क्यूँ देखें ज़िंदगी को किसी की नजर से हम “

Le De Ke Apne Paas Faqat Ek Najar Toh Hai,
Kyun Dekhein Zindagi Ko Kisi Ki Najar Se Hum.

148.

” वही रंजिशें वही हसरतें,
न ही दर्द-ए-दिल में कमी हुई,
है अजीब सी मेरी ज़िन्दगी,
न गुज़र सकी न खत्म हुई “

Wohi Ranjishen Wohi Hasratein,
Na Hi Dard-E-Dil Me Kami Huyi,
Hai Azeeb Si Meri Zindagi,
Na Gujar Saki Na Khatm Huyi.

149.

” नफरत सी होने लगी है इस सफ़र से अब,
ज़िंदगी कहीं तो पहुँचा दे खत्म होने से पहले “

Nafrat Si Hone Lagi Hai Iss Safar Se Ab,
Zindagi Kahin Toh Pahucha De Khatm Hone Se Pehle.

150.

” ज़िन्दगी तुझसे हर कदम पर समझोता क्यूँ किया जाये,
शौक जीने का है मगर इतना भी नहीं की, मर मर के जिया जाए,
जब जलेबी की तरह उलझ ही रही है तू ऐ ज़िन्दगी,
तो फिर क्यूँ न तुझे चाशनी में डुबोकर मज़ा ही ले लिया जाये “

” Zindagi tujhse har kadam par samjhota kyun kiya jaye,
Shauk jeene ka hai magar itna bhi nahi ki, Mar-mar ke jiya jaye.
Jab jalebi ki tarah ulajh hi rahi hai tu Aey zindagi,
Toh fir kyun na tujhe chaashni mai dubokar maza hi le liya jaye ”

151.

” जिस दिन बंद कर ली हमने आंखें,
कई आँखों से उस दिन आंसू बरसेंगे,
जो कहते हैं की बहुत तंग करते हैं हम,
वही हमारी एक शरारत को तरसेंगे “

Jis din band kar li hmne ankhein,
Kai ankhon se us din aansu barsenge,
Jo kehte hain ke bahut tang karte hai hum,
Wahi hamari ek shararat ko tarsenge..

152.

” फुर्सत में करेंगे, तुझसे हिसाब ऐ ज़िन्दगी,
अभी तो उलझे हैं, खुद को सुलझाने में “

Fursat me karenge
Tujhse hisab-e-zindagi
Abhi to uljhe hain
Khud ko suljhane mein

153.

” पढ़ने वालों की कमी हो गयी है
आज इस ज़माने में…
वरना मेरी ज़िन्दगी का हर पन्ना,
पूरी किताब है “

Parhne Walon Ki Kami Ho Gayi Hai
Aaj Is Zamaane Mein…
Varna Meri Zindagi Ka Har Panna,
Puri Kitaab Hai!

154.

” शतरंज‬ खेल रही है मेरी ‪जिंदगी‬ कुछ इस तरह,
कभी तेरी मोहब्बत मात देती है कभी मेरी ‪किस्मत‬ “

shatranj khel rahi hai meri jindagi kuch is tarah,
kabhi teri mohbbat maat deti hai kabhi meri kismat

155.

” इन्सान ख्वाहिशो से बंधा
एक जिद्दी परिंदा है
जो उम्मीदों से ही घायल है
और उम्मीदों से ही जिंदा है “

Insan khwahisho se bandha
Ek ziddi parinda hai
Jo ummido se hi ghayal hai
Aur ummido se hi zinda hai

156.

” ज़िन्दगी लहर थी आप साहिल हुए,
न जाने कैसे हम आपकी दोस्ती के काबिल हुए,
न भूलेंगे हम उस हसीं पल को,
जब आप हमारी छोटी सी ज़िन्दगी में शामिल हुए “

Zindagi lehar thi aap sahil hue,
Na jaane kaise hum aapki dosti ke qabil hue,
Na bhulenge hum us haseen pal ko,
Jab aap hamari choti si zindagi mei shamil hue..

157.

” ज़िन्दगी में एक बात, हमेशा याद रखना,
हमें तब तक कोई, हरा नहीं सकता,
जब तक हम खुद से न हार जाये “

Zindagi me ek baat
Hamesha yaad rakhna
Hamein tab tak koi
Haraa nahi sakta
Jab tak ham khud se
Na haar jaye

158.

” फुर्सत मिले जब भी तो रंजिशे भुला देना,
कौन जाने साँसों की मोहलतें कहाँ तक हैं “

Fursat Mile Jab Bhi Toh Ranjishen Bhula Dena,
Kaun Jaane Saanso Ki Mohlatein Kahan Tak Hain.

159.

” युहीं आँखों से आंसू बहते नहीं,
किसी और को हम अपना कहते नहीं,
एक तुम ही हो जो रुक से गए हो ज़िन्दगी में,
वरना रुकने के लिए हम किसी को कहते नहीं “

Yuhi Aankhon Se Aansu Behte Nahi,
Kisi Aur Ko Hum Apna Kehte Nahi,
Ek Tum Hi Ho Jo Ruk Se Gaye Ho Zindagi Mein,
Warna Rukne Ke Liye Hum Kisi Ko Kehte Nahi..

160.

” ए ज़िन्दगी तू इतनी
बद्सलुखी न कर
कौन सा यहा हम
बार-बार आने वाले है “

Ae zindagi tu itni
Badsalukhi na kar
Kaun sa yha hum
Baar-baar aane wale hai

161.

” मुझ से नाराज़ है तो छोड़ दे तन्हा मुझको,
ऐ ज़िंदगी, मुझे रोज-रोज तमाशा न बनाया कर “

Mujh Se Naaraj Hai To Chhod De Tanha Mujhko,
Aye Zindagi, Mujhe Roz Roz Tamasha Na Banaya Kar.

162.

” मिजाज को बस तलखियाँ ही रास आयीं,
हमने कई बार मुस्कुरा के देख लिया “

” Mijaaj Ko Bas Talkhiyan Hi Raas Aayin,
Humne Kayi Baar Muskura Ke Dekh Liya.. ”

163.

” मैंने ज़िन्दगी से पूछा
सबको इतना दर्द क्यों देती हो
ज़िन्दगी ने हस कर जवाब दिया
हम तो सब को ख़ुशी देते है
पर एक की ख़ुशी दूसरे का
दर्द बन जाती है “

” Maine zindagi se pucha
Sabko itna dard kyo deti ho
Zindagi ne has kar jawab diya
Hum to sab ko khushi dete hai
Par ek ki khushi dusre ka
Dard ban jati hai ”

164.

” इस दिल को किसी की आस रहती है,
निगाह को किसी सूरत की प्यास रहती है,
तेरे बिना ज़िन्दगी में कमी तोह नहीं,
फिर भी तेरे बिना ज़िन्दगी उदास रहती है “

” Iss dil ko kisi ki aas rehti hai,
Nigaah ko kisi soorat ki pyaas rehti hai,
Tere bina zindagi mein kami toh nahi,
Phir bhi tere bina zindagi udhaas rehti hai ”

165.

” क्या है जिंदगी, देखो तो ख्वाब है ज़िन्दगी,
पढो तो किताब है ज़िन्दगी,
सुनो तो ज्ञान है ज़िन्दगी “

” Kya hai zindagi
Dekho to khwaab hai zindagi
Padho to kitab hai zindagi
Suno to gyan hai zindagi ”

166.

” ज़िन्दगी हर पल ढलती है,
जैसे रेत मुट्ठी से फिसलती है,
शिकवे कितने भी हो किसी से,
फिर भी मुस्कराते रहना,
क्योंकि ये ज़िन्दगी जैसी भी है,
बस एक ही बार मिलती है। “

167.

” Zindagi Har Pal Dhalti Hai,
Jaise Ret MutThi Se Fisalti Hai,
Shikwe Kitne Bhi Ho Kisi Se,
Fir Bhi Muskurate Rahna,
Kyunki Yeh Zindagi Jaisi Bhi Hai,
Bas Ek Hi Baar Milti Hai ”

168.

” रश्मे उल्फत को निचय तो निभाए कैसे,
हर तरफ आग है, दामन को बचाए कैसे,
बोझ होता जो ग़मों का तो उठा भी लेते,
ज़िन्दगी बोझ बनी तो फिर उठाये कैसे “

” Rashme ulfat ko nibhaye to nibhaye kaise,
Har taraf aag hai daaman ko bachaye kaise,
Bojh hota jo gamo ka to utha bhi lete,
Zindagi bojh bani to fir uthaye kaise ”

169.

” होक मायूस न यु शाम
की तरह ढलते रहिये
ज़िन्दगी एक भोर है सूरज
की तरह निकलते रहिये “

” Hoke mayus na yu shaam
Ki tarah dhalte rahiye
Zindagi ek bhor hai suraj
Ki tarah nikalte rahiye ”

170.

” उजालों की जरूरत है,
अँधेरा मेरी किस्मत है,
कभी पलकों पे आंसू हैं,
कभी लब पर शिकायत है “

” Ujalon Ki Zaroorat Hai,
Andhera Meri Kismat Hai,
Kabhi Palkon Pe Ansoo Hai,
Kabhi Lab Par Shikayat Hai ”

171.

” ज़िन्दगी एक हसीन ख़्वाब है,
जिसमें जीने की चाहत होनी चाहिये,
ग़म खुद ही ख़ुशी में बदल जायेंगे,
सिर्फ मुस्कुराने की आदत होनी चाहिये “

” Zindagi Ek Haseen Khwab Hai,
Jisme Jeene Ki Chahat Honi Chahiye,
Gham Khud Khushi Me Badal Jayenge,
Sirf Muskurane Ki Aadat Honi Chahiye ”

172.

” गम न कर ज़िन्दगी बहुत बड़ी है,
चाहत की महफ़िल तेरे लिए सजी है,
बस एक बार मुस्कुरा कर तो देख,
तकदीर खुद तुझसे मिलने बाहर कड़ी है “

” Gham na kar zindagi bahut badi hai
Chahat ki mehfil tere liye saji hai
Bas ek baar muskura kar to dekh
Taqdeer khud tujhse milne bahar khadi hai ”

173.

” हो के मायूस न यूं शाम से ढलते रहिये,
ज़िन्दगी भोर है सूरज सा निकलते रहिये,
एक ही पाँव पे ठहरोगे तो थक जाओगे,
धीरे-धीरे ही सही राह पे चलते रहिये “

” Ho Ke Mayoos Na Yun Shaam Se Dhalte Rahiye,
Zindagi Bhor Hai Suraj Sa Nikalte Rahiye,
Ek Hi Paav Pe Thehroge Toh Thak Jaoge,
Dheere Dheere Hi Sahi Raah Pe Chalte Rahiye ”

174.

” हद-ए-शहर से निकली तो गाँव गाँव चली,
कुछ यादें मेरे संग पाँव पाँव चली,
सफ़र जो धूप का किया तो तजुर्बा हुआ,
वो जिंदगी ही क्या जो छाँव छाँव चली “

” Had-E-Shahar Se Nikali To Gaon-Gaon Chali,
Kuchh Yaadein Mere Sang Paaon Paaon Chali,
Safar Jo Dhoop Ka Kiya To Tazurba Hua,
Woh Zindgi Hi Kya Jo Chhao-Chhao Chali ”

175.

थक गया हूँ तेरी नौकरी से ऐ जिन्दगी,
मुनासिब होगा मेरा हिसाब कर दे।

” Thak Gaya Hoon Teri Naukari Se Ai Zindgi,
Munaasib Hoga Mera Hisaab Kar De ”

176.

” मगर ऐ जिंदगी फिर भी,
मुझे तुझसे मुहब्बत है “

” Magar Aye Zindgi Phir Bhi,
Mujhe Tujh Se Mohabbat Hai ”

177.

” ग़ैरों से पूछती है तरीका निज़ात का
अपनों की साजिशों से परेशान ज़िंदगी “

” Gairon Se Puchhti Hai Tareeka Nizaat Ka,
Apno Ki Saajishon Se Pareshaan Zindagi ”

178.

” ज़िन्दगी में कभी उदास मत होना
कभी किसी बात पर निराश मत होना
ये ज़िन्दगी एक संगर्ष है
चलती ही रहेगी “

” Zindagi me kabhi udaas mat hona
Kabhi kisi baat par nirash mat hona
Ye zindagi ek sangarsh hai
Chalti hi rahegi ”

179.

” तंग आ चुके हैं कशमकश-ए-ज़िंदगी से हम,
ठुकरा न दें जहाँ को कहीं बे-दिली से हम,
लो आज हमने छोड़ दिया रिश्ता ए उमीद,
लो अब कभी किसी से गिला ना करेगे हम,
पर जिंदगी मे मिल गये इत्तेफ़ाक से
पुछेगे अपना हाल तेरी बेबसी से हम “

” Tang Aa Chuke Hain Kashmkash-e-Zindgi Se Hum,
Thukra Na Dein Jahan Ko Kahin De-Dili Se Hum.
Lo Aaj Humne Chhod Diya Rishta-e-Ummid,
Lo Ab Kabhi Kisi Se Gila Na Karenge Hum,
Gar Zindgi Mein Mil Gaye Ittefak Se,
Puchhenge Apna Haal Teri Bebasi Hum ”

 

आशा करते हैं आपको हमारा शायरी का कलेक्शन (Best Heart Touching Sad Emotional Shayari on Life and Zindagi in Hindi with HD Images and Wallpaper for WhatsApp facebook DP ) जरूर पसंद आया होगा|

आप शायरी और इमेजेज कॉपी करके अपने दोस्तो और सोशल मीडिया में शेयर कर सकते हैं|

 

 

 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *